काश ! मैं सियार होता

काश ! मैं सियार होता.

किसी भी रंग में रंगने को तैयार होता.

काश ! मैं सियार होता.

सामने से नहीं पीठ पर मेरा वार होता.

काश ! मैं सियार होता.

दुर्बल को सताता बली का ताबेदार होता.

काश ! मैं सियार होता.

गधे घोड़े हिरन सबका जीना दुश्वार होता.

काश ! मैं सियार होता.

मैं नोचता मुर्दा जो दूसरे का शिकार होता.

काश ! मैं सियार होता.

छोटी बड़ी हर सरकारी कुर्सी पर सवार होता.

काश ! मैं सियार होता.

बाप ठेकेदार तो बेटा थानेदार होता.

काश ! मैं सियार होता.

भारत भू की लूट का मैं भी हिस्सेदार होता.

काश ! मैं सियार होता.

 शेर की रियासत में सियासत का औज़ार होता.

काश ! मैं सियार होता.

भ्रष्टाचार के तेल में देश का अचार होता.

काश ! मैं सियार होता.

गुजर चुके कारवाँ का धूल भरा गुबार होता.

काश ! मैं सियार होता.

मेरी ख़बरों से भरा हर देसी अखबार होता.

काश ! मैं सियार होता.

आंतक के व्यापार में बयानों का हथियार होता.

काश ! मैं सियार होता.

मैं करता हुवां हुवां सोनिया का दरबार होता.

Advertisements
Published in: बिना श्रेणी on अगस्त 8, 2011 at 1:40 अपराह्न  टिप्पणी करे